ताजा खबरें

Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है

Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है
Post tag – PNP Coin kya hai, PNP Coin in Hindi, PNP Coin kya hai, PNP Coin price in 2022, PNP Coin kya hai, PNP Coin inr in 2022

PNP COIN क्या है? क्या यह क्रिप्टोक्यूरेंसी (cryptocurrency) में अगली क्रांति है ?

PNP Coin kya hai? – आजकल हर तरफ निवेश बाजार में डिजिटल करेंसी की चर्चा है। क्रिप्टोक्यूरेंसी निवेशकों के लिए बाजार में निवेश करने वाली पहली पसंदीदा मुद्रा बन गई है, और जब से एलोन मस्क और अन्य बड़े उद्योगपतियों ने क्रिप्टो मुद्रा के बारे में अपने बयान दिए हैं।

तब से आम लोगों में भी क्रिप्टो करेंसी का चलन धीरे-धीरे बढ़ रहा है। फिर भी लोगों के मन में इस करेंसी के निवेश को लेकर डर बना हुआ है। आइए हम आपकी शंकाओं को दूर करते हैं।

इस मुद्रा की सबसे अच्छी बात यह है कि इसका कोई भौतिक रूप नहीं है। इसे कोई चुरा नहीं सकता बल्कि यह आपके पास डिजिटल रूप में उपलब्ध होगा।

डिजिटल मुद्रा भी सुविधाजनक है क्योंकि आपको इस मुद्रा में निवेश करने के लिए किसी सरकारी हस्तक्षेप की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है। जबकि भौतिक मुद्रा में निवेश करने के लिए हमें सरकारी हस्तक्षेप का सामना करना पड़ता है, जो कभी-कभी निवेशकों के लिए हानिकारक साबित होता है। PNP Coin kya hai

इसका मुख्य कारण यह है कि सरकारी विकेंद्रीकरण द्वारा भौतिक मुद्रा की पेशकश की जाती है। अब हम आपको बता रहे हैं दुनिया की पहली क्रिप्टोकरेंसी जिसका नाम है पीएनपी कॉइन।

दुनिया की पहली physical cryptocurrency कौन सी है?

दुनिया की पहली क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन है। यह क्रिप्टोकुरेंसी बाइनरी डेटा एक्सचेंज का एक माध्यम है जिसे निवेश के लिए बाजार में लॉन्च किया गया है। इस सिक्के को स्वामित्व रिकॉर्ड के साथ एक बहीखाता में सुरक्षित रखा जाता है। जिसे हम कम्प्यूटरीकृत डेटाबेस भी कह सकते हैं।

इसके अलावा क्रिप्टो करेंसी को लेनदेन के लिए सुरक्षित और मजबूत माध्यम भी माना जाता है। कुछ क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करने के लिए, आपको सत्यापन से भी गुजरना होगा।

अपने टोकन को सुरक्षित रखने के लिए आपके द्वारा प्रूफ-ऑफ-स्टेट-मॉडल यानी मालिक द्वारा क्रिप्टोकरेंसी को दरकिनार किया जाता है। बदले में, आपको उस टोकन राशि के अनुपात में दांव लगाने या निवेश करने का अधिकार मिलता है।

आमतौर पर इन टोकन लेने वालों को समय-समय पर टोकन के उपयोग के साथ-साथ नेटवर्क निवेश के नए नियमों के लिए अतिरिक्त स्वामित्व प्राप्त होता है। हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि क्रिप्टो करेंसी कोई कागजी ईंधन नहीं है और इसे किसी केंद्रीय प्राधिकरण द्वारा जारी नहीं किया जाता है।

यानी सरकार का या किसी भी अधिकारी का कोई भी हस्तक्षेप इसमें ना के बराबर होता है |

PNP Coin kya hai (PNP Coin In Hindi)

PNP क्रिप्टो करेंसी को Hollis Group द्वारा पेश किया गया था। यह इस समूह द्वारा पेश की गई पहली क्रिप्टोकरेंसी थी। इस क्रिप्टोकरेंसी की खास बात यह है कि यह गर्व के लिए किसी भी अन्य क्रिप्टो करेंसी की तुलना में खुद को मौलिक रूप से सुरक्षित बनाती है।

यह क्रिप्टोक्यूरेंसी अपनी तरह का एक परिसंपत्ति वर्ग है, जो निवेशकों को विलियम के सभी पहलुओं पर स्पष्टता प्रदान करता है।

हाल ही में भारत में भी आरबीआई के अयोग्य और गैर-सुरक्षात्मक रवैये को देखते हुए, निवेशकों ने सोचा कि क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना एक समझदारी भरा निवेश हो सकता है।

पीएनबी कॉइन को दुनिया भर के निवेशकों द्वारा एक सुरक्षित निवेश पद्धति भी माना जाता है क्योंकि यह एक अद्वितीय और स्थापित परिसंपत्ति वर्ग का प्रतिनिधित्व करता है जिसमें तरलता के लिए पर्याप्त ढांचा और प्रसिद्ध बाजार सहभागियों के लिए भागीदारी का एक विस्तृत पूल है।

साथ ही, हम आपको यह भी बताना चाहते हैं कि यदि आप स्टॉक या वैट सुरक्षा के समान लंबी अवधि के लिए पीएनपी कॉइन्स में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो आपको निवेश बाजार की अस्थिरता या जोखिम से लाभ होगा।

जब निवेश लंबी अवधि के लिए होता है, तो यह आपके लिए संपत्ति बनाने का एक शानदार अवसर हो सकता है।

PNP Coin सुरक्षित कैसे हैं ?

PNP Coin एक विनियमित क्रिप्टोकरेंसी है, जो सुरक्षा के साथ दीर्घकालिक स्थिरता प्रदान करती है। पर्यटन क्षमता के साथ एक शीर्ष मॉडल के रूप में आपकी सेवा करता है।

जो निवेश को दीर्घकालिक और सुरक्षित बनाता है। इसके अलावा हेलिओस ने पीएनबी कॉइन के इस्तेमाल को लेकर कुछ ऐसे प्लान बनाए हैं। जिससे आप निकट भविष्य में अद्भुत लेनदेन गति के साथ अंतर्राष्ट्रीय भुगतान भी कर सकते हैं।

हेलिओस ग्रुप पीएनपी कॉइन के ब्लॉकचेन को सपोर्ट करता है। यह कंपनी प्रोटोकॉल की संरचना का सख्ती से पालन करती है। वर्ष 2022 तक यह उम्मीद की जा रही है कि लगभग 30% की वृद्धि के साथ यह क्रिप्टोकरेंसी बाजार में तेजी से बढ़ेगी |

जिसका अर्थ है कि यदि आप आज इसमें निवेश करते हैं, तो वर्ष 2022 में आपको कुल निवेश का 30% लाभ प्राप्त होगा। जिसे एक बहुत ही अच्छे डिजिटल करेंसी निवेश का उदाहरण माना जा सकता है।

किसी भी अन्य क्रिप्टो करेंसी के विपरीत PNP Coin physical cryptocurrency

जब क्रिप्टोकरेंसी या अन्य डिजिटल संपत्तियों की बात आती है, तो वास्तविक उपयोग में मूल्य और मुद्रा के कार्यात्मक स्टोर का विचार दिमाग में आता है। बिटकॉइन एक संपत्ति नहीं है और इसके पीछे कोई वेबसाइट योजना नहीं है। लेकिन PNP Coin आपको यह और कुछ अन्य अवसर भी देता है, जिससे आप निवेश करके अधिक से अधिक पैसा कमा सकते हैं।

आजकल पीएलपी प्वाइंट बाजार में किसी भी अन्य क्रिप्टो मुद्रा के विपरीत बहुत अच्छा कर रहा है। इसका उद्देश्य, कार्यक्षमता और वास्तविक मूल्य अन्य डिजिटल मुद्राओं से अलग है, जो इसे बाजार की स्थिरता के प्रति संवेदनशील बनाता है।

किसी भी अन्य इक्विटी निवेश की तरह, पीएनपी कॉइन अन्य क्रिप्टोकरेंसी की तुलना में कम स्थिर है, और इसीलिए निवेशकों को यह ध्यान रखना चाहिए कि जब भी वे पीएनबी कॉइन में निवेश करने के बारे में सोचें, तो इसे एक दीर्घकालिक निवेश मानें।

क्रिप्टो करेंसी क्योंकि यह फिजिकल करेंसी नहीं बल्कि डिजिटल करेंसी है। इसलिए इसका भविष्य इलेक्ट्रॉनिक भी कहा जा सकता है। यदि आप लंबे समय में धन में वृद्धि करना चाहते हैं।

इसलिए एक जानकार निवेशक के रूप में, आपको अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाने या अधिकतम संभावित लाभ अर्जित करने के लिए इस मुद्रा पर विचार करना चाहिए। पीएनबी कॉइन अपने निवेशकों को दीर्घकालिक लाभ, मुद्रा मूल्यह्रास या मुद्रास्फीति में प्रतिकूल गिरावट में अस्थिरता से बचाता है।

Conclusion – PNP Coin kya hai?

हमें आशा है की यह ब्लॉग पोस्ट पढ़ने के बाद आपके सवाल PNP coin kya hai?) PNP Coin कैसे काम करता है? और इसका भविष्य क्या है? इन सभी का जवाब आपको आसानी Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है से मिल गया होगा।

Post tag – PNP Coin kya hai, PNP Coin in Hindi, PNP Coin kya hai, PNP Coin price in 2022, PNP Coin kya hai, PNP Coin inr Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है in 2022

मेरा नाम Vikas Kushwaha है और मैं Uttar Pradesh के प्रयागराज शहर मे रहता हु।अभी मै Graducation 1st t year (B.A.) का Student हूँ | मुझे Finanace, Cryptocurrency, Investment, और Digital Marketing के बारे में पढ़ने और लिखने का शौक है। मै इस Blog के माध्यम से Readers को क्रिप्टो करेंसी, फाइनेंस और निवेश की जानकारी हिंदी भाषा में देना Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है चाहता हूँ ।

Liquidity क्या है?

व्यापार, अर्थशास्त्र या निवेश में, बाजार की liquidity एक बाजार की विशेषता है जिससे कोई व्यक्ति या फर्म परिसंपत्ति की कीमत में भारी बदलाव किए बिना किसी संपत्ति को जल्दी से खरीद या बेच सकता है। liquidity में उस कीमत के बीच व्यापार-बंद शामिल होता है जिस पर एक संपत्ति बेची जा सकती है, और इसे कितनी जल्दी बेचा जा सकता है।

तरलता क्या है? [What is Liquidity? In Hindi]

liquidity cash की त्वरित पहुंच से संबंधित है। व्यक्ति संपत्ति या सुरक्षा रखते हैं, और liquidity उस आसानी को संदर्भित करती Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है है जिसके साथ इन्हें नकदी में बदलने के लिए बाजार में खरीदा या बेचा जा सकता है।

Cash को liquidity का मानक माना जाता है क्योंकि इसे अन्य परिसंपत्तियों में आसानी से Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है बदला जा सकता है। इसे दो तरीकों से मापा जा सकता है - Market Liquidity और Accounting Liquidity.

'तरलता' की परिभाषा [Definition of "Liquidity"] [In Hindi]

Liquidity का अर्थ है कि आप अपने नकदी पर कितनी जल्दी अपना हाथ रख सकते हैं। सरल शब्दों में, liquidity यह है कि जब भी आपको आवश्यकता हो, अपना पैसा प्राप्त करें।

तरलता क्यों महत्वपूर्ण है? [Why liquidity is important?] [In Hindi]

यदि market liquid नहीं हैं, तो संपत्ति या प्रतिभूतियों को नकदी में बेचना या परिवर्तित करना मुश्किल हो जाता है। उदाहरण के लिए, आपके पास Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है 1,50,000 Rs मूल्यांकित एक बहुत ही दुर्लभ और मूल्यवान पारिवारिक विरासत हो सकती है। हालांकि, अगर आपकी वस्तु के लिए बाजार नहीं है (यानी कोई खरीदार नहीं है), तो Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है यह अप्रासंगिक है क्योंकि कोई भी इसके मूल्यांकित मूल्य के करीब कहीं भी भुगतान नहीं करेगा - यह बहुत ही तरल है। ब्रोकर के रूप में कार्य करने और संभावित इच्छुक पार्टियों को ट्रैक करने के लिए नीलामी घर को किराए पर लेने की भी आवश्यकता हो सकती है, जिसमें समय लगेगा और लागतें लगेंगी। Liquid Asset, हालांकि, आसानी से और जल्दी से उनके पूर्ण मूल्य के लिए और कम लागत के साथ बेची जा सकती है। कंपनियों को अपने अल्पकालिक दायित्वों जैसे बिल या पेरोल को कवर करने के लिए पर्याप्त तरल संपत्ति भी रखनी चाहिए या फिर तरलता संकट का सामना करना पड़ता है, जिससे दिवालियापन हो सकता है।

Liquidity क्या है?

तरल संपत्ति के प्रकार [Type of Liquid Asset] [In Hindi]

Liquid Asset ऐसी संपत्तियां हैं जो व्यवसायों या व्यक्तियों के पास होती हैं, जिन्हें जल्दी से नकदी में परिवर्तित किया जा सकता है। इसमें नकद, marketable securities के साथ-साथ मुद्रा बाजार के साधन शामिल हो सकते हैं। ऐसी सभी संपत्तियां कंपनी की बैलेंस शीट में परिलक्षित होती हैं।

नकद और बचत खाते आमतौर पर तरलता के उच्चतम रूप को बनाए रखते हैं जो कि व्यवसायों या व्यक्तियों के स्वामित्व में हो सकते हैं। निम्नलिखित संपत्तियों को भी आसानी से परिसमाप्त किया जा सकता है -

  • Cash
  • Cash Evolution
  • Accrued Income
  • Stocks
  • Government Bond
  • Promissory Notes
  • Account Receivables
  • Marketable Securities
  • Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है
  • Certificates of Deposits

सबसे अधिक तरल संपत्ति या प्रतिभूतियां क्या हैं? [What are the most liquid assets or securities?] [In Hindi]

नकद सबसे अधिक Liquid Asset है जिसके बाद नकद-समकक्ष हैं, जो money market, CD या Fixed Deposits जैसी चीजें हैं। एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध स्टॉक और बॉन्ड जैसी marketable securities अक्सर बहुत तरल होती हैं, और ब्रोकर के माध्यम से जल्दी से बेची जा सकती हैं। सोने के सिक्के और कुछ संग्रहणीय वस्तुएं भी नकदी के लिए आसानी से बेची जा सकती हैं।

मुद्रा किसे कहते है

मुद्रा किसे कहते है आर्थिक प्रणाली में मुद्रा का केवल एक मौलिक कार्य है – वस्तुओ तथा सेवाओं के लेन – देन को सरल बनाना । जी हाँ दोस्तों आज के पोस्ट में हम बात करने वाले है मुद्रा किसे कहते है क्या रोल होता है हमारे जीवल में मुद्रा का मुद्रा प्रचलन आज से नहीं बल्कि हर युग होते रहा है । चाहे प्राचीन कल हो या मध्य कल हो या फिर आज का आधुनिक कल हो ऐ हमेसा से प्रचलन में चलते आरा रहा है । वस विनिमय का तरीका अलग था ।

मुद्रा किसे कहते है

मुद्रा ने समाज में विभिन्न प्रकार के कार्य करके आर्थिक विकाश को सम्भव बनाया है । आर्थिक प्रणाली में मुद्रा का केवल एक मौलिक कार्य है – वस्तुओ तथा सेवाओं के लेन – देन को सरल Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है बनाना इसमें बैंको का विशेष योगदान होता है , साथ ही वित्तीय संस्थान समाज में मुद्रा के सहविभाजन में पूर्ण सहयोग प्रदान करते है ।

मुद्रा

मुद्रा की उत्पत्ति विनिमय के माध्यम के रूप में हुई है। अतः वस्तु जो विनिमय के माध्यम का कार्य करती है, वह मुद्रा कहलाती है अर्थात् मुद्रा (Currency) वह वस्तु है, जो सभी प्रकार के लेन-देन में भुगतान के माध्यम Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है के रूप में प्रयुक्त होती है अर्थात् यह एक शक्तिशाली वस्तु है, जो भुगतान के माध्यम के रूप में पूर्णतया स्वीकृत है।

images 2

मुद्रा का निर्गमन केन्द्रीय बैंक व सरकार द्वारा किया जाता है। मुद्रा का अभिप्राय मात्र नोटों व सिक्कों से न होकर उन सभी वस्तुओं से हैं, जो भुगतान के रूप में सामान्यतः स्वीकार की जाती हैं।

मुद्रा के दो प्रकार होते है

1. वैधानिक Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है मुद्रा (Legal Currency) वह मुद्रा है, जिसका निर्गमन सरकार या रिजर्व बैंक द्वारा एक विधान के अन्तर्गत किया जाता है, जिसमें रिजर्व बैंक धारक को उतनी रकम अदा करने का वचन देता है।

2. साख मुद्रा (Credit Currency) वह मुद्रा है, जिसका भुगतान चेकों के माध्यम से होता है।

मुद्रा की तरलता

मुद्रा की तरलता (Liquidity of Currency) से आशय मुद्रा की किसी वस्तु में परिवर्तनीयता से है अर्थात् मुद्रा में किया गया भुगतान बिना किसी क्षति के वस्तु या सेवा में परिवर्तित हो जाता है। दूसरे शब्दों में, मुद्रा वह माध्यम है, जो बिना किसी मूल्य ह्रास के किसी भी वस्तु का स्वरूप धारण कर सकती है।

मुद्रा की पूर्ति

मुद्रा की पूर्ति एक स्टॉक अवधारणा है। इससे अभिप्राय एक निश्चित समय पर देश के लोगों के पास कुल मुद्रा (सभी प्रकार की) के स्टॉक से है। दूसरे शब्दों में मुद्रा की पूर्ति का अर्थ जनता के पास अथवा मुद्रा की माँग करने वालों के पास मुद्रा का स्टॉक है।

सामान्य अर्थ में मुद्रा की पूर्ति से (Supply of Money) आशय मुद्रा के उस आकार से है, जो देश के लोगों के पास होता है। इसमें सरकार या बैंकों के पास जो मुद्रा करते, लेकिन होती है, उसको शामिल मुद्रा की वास्तविक पूर्ति ज्ञात करने के लिए चैडलर द्वारा प्रतिपादित तुलना पत्र दृष्टिकोण का प्रयोग किया जाता है। इसके अनुसार, की पूर्ति (S)= मुद्रा दायित्वा ।

11 04 334275125326774 indian currency

मुद्रा की पूर्ति पर विचार करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक ने वर्ष 1961 में प्रथम वर्ष 1977 में दूसरा कार्यकारी समूह गठित किया, जिसने तरलता के माप के आधार पर मुद्रा को चार वर्गों में बाटा गया है

NOTE – विशेष जानने के लिए आप विकिपीडिया भी USE कर सकते है निचे इसका लिंक है ।

https://hi.wikipedia.org/

1. M1 जनता के पास मुद्रा (करेन्सी नोट तथा सिक्के) + बैंकों की माँग जमाएँ (चालू और बचत खातों पर) + रिजर्व बैंक के पास अन्य जमाएँ।

2. M2 = M1 + डाकघरों की बचत व बैंक जमाएँ।

3. M3 = M1 + व्यापारिक बैंकों की निवल सावधि जमाएँ। (M3) = जनता के पास चलन + बैंको की चालू एवं बचत जमाएँ + बैंकों क सावधि जमाएँ + रिजर्व बैंक के पास अन्य जमाएँ।

4. M4 = M3 + डाकघर की कुल जमा राशि (NSC छोड़कर)

उपरोक्त चारों संघटकों में M1 सबसे अधिक तरलता (Liquidity) को प्रदर्शित करता है तथा यह तरलता क्रमशः घटती जाती है और अन्तिम संघटक M4 सबसे कम तरलता पाई जाती है।

  • उपरोक्त माप के साथ ही रिजर्व बैंक ने तरलता मिश्रण की नई अवधारणा को अलग से मौद्रिक समीकरणों के नए तरीकों में, परिभाषित किया है। तरलता मिश्रणों की गणना निम्न प्रकार की जाती हैं L = नई Mg + डाकघर बचत बैंक के पास सभी जमाएँ (राष्ट्रीय बचत पत्र को छोड़कर)
  • L = L + सावधि वित्तीय एवं पुनर्वित्त संस्थाओं के पास सावधि जमाएँ L = L + गैर-बैंकिंग वित्त कम्पनियों (NBFCs) के पास जनता की जमाएँ ।

इन्हे भी पढ़े

मुद्रा समय की मांग है जो हमेसा परिवर्तित होती है जनरेशन to जनरेशन । आजके पोस्ट में हमने जाना मुद्रा क्या होता है । हमारी ऐ पोस्ट आपसभी को अच्छी गी तो ऐसे शेयर जरूर करे अपने दोस्तों के साथ । तो मिलते हो अगले पोस्ट में ।

Jagran Trending: Metaverse की दुनिया में नहीं चलेगी नोर्मल करेन्सी, NFT और क्रिप्टो से होगा लेनदेन, जानें डिटेल

एनएफटी एक डिजिटल संपत्ति है जो कला संगीत और गेम जैसे इंटरनेट चीजों की प्रतिनिधित्व करती है जो ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से बनाए गए एक प्रामाणिक प्रमाण पत्र के साथ है जो क्रिप्टोक्यूरेंसी को रेखांकित करता है। आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से..

नई दिल्ली, सौरभ वर्मा। मेटावर्स की एक वर्चुअल यानी आभाषी दुनिया होगी। इस वर्चुअल दुनिया में नॉर्मल करेंसी नहीं चलेगी। मेटावर्स वर्ल्ड की अपनी सेलेक्टेड करेंसीज होंगी। यह करेंसी ब्लॉकचेन बेस्ड होगी। जिस पर किसी देश या फिर सरकार का कंट्रोल नहीं होगा। साथ ही एक मेटवर्स से दूसरे मेटावर्स में आने जाने के लिए अगल-अलग करेंसी की जरूरत नहीं होगी। ऐसे में करेंसी एक्सचेंज नहीं कराना होगा। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर मेटावर्स में कैसी करेंसी काम करेंगी। आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से.

Join Jagran HiTech Awards after 2 days to celebrate the excellence of mobile and mobility

बता दें कि एनएफटी (NFT) और क्रिप्टो टोकन (Crypto token) जैसी डिजिटल करेंसी के बारे में खूब चर्चा रही है। एनएफटी की बदौलत यूजर्स मेटावर्स में अपनी डिजिटल एसेट्स यानी डिजिटल संपत्ति पर पूर्ण कंट्रोल रख सकते हैं। उदाहरण के लिए, अगर आपने मेटावर्स (Metaverse) में एक वर्चुअल जमीन (virtual land) खरीदते हैं, तो मेटावर्स आपको एनएफटी के रूप में कंफर्म सर्टिफिकेट उपलब्ध कराएगा, जिसकी गारंटी ब्लॉकचेन की ओर से दी जाएगी। यह वर्चुअल जमीन आपको क्रिप्टो का उपयोग करके खरीददारी का ऑप्शन देगी।

Jagran HiTech Awards-3 Days To Go, See Full Details

शान्तनु शर्मा, वाइस प्रेसीडेंट - ग्रोथ एंड मार्केटिंग ईज़ीफ़ाई नेटवर्क के मुताबिक मेटावर्स का अपना मूल यानी Native टोकन होता है, जिसका उपयोग खरीदारी करने के लिए किया जा सकता है। तो मेटावर्स में आप वर्चुअल जमीन उसके एनएफटी और क्रिप्टो के पूर्ण नियंत्रण में हैं, जिसका उपयोग आप जमीन खरीदने के लिए करते थे।

क्रिप्टोकरेंसी भौतिक और आभासी दुनिया के बीच एक कड़ी के रूप में काम करती है। वे हमें फिएट मुद्रा में डिजिटल संपत्ति के मूल्य और समय के साथ उनके रिटर्न की गणना करने की अनुमति देते हैं। दुनिया भर के एक्सचेंजों पर क्रिप्टो की तरलता भी निवेशकों को सिक्कों और एनएफटी को सीधे खरीदारों को बेचकर मुनाफे का एहसास करने की अनुमति देती है।

NFT क्या है? What is NFT?

NFT यानी नॉन-फंजिबल टोकन एक तरह का डिजिटल एसेट है जिसे ना तो बदला जा सकता है और ना ही इंटरचेंज किया जा Cryptocurrency के लिए तरलता का क्या मतलब है सकता है, क्योंकि इसमें यूनिक गुण है। एनएफटी एक डिजिटल संपत्ति है जो कला, संगीत और गेम जैसे इंटरनेट चीजों की प्रतिनिधित्व करती है, जो ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से बनाए गए एक प्रामाणिक प्रमाण पत्र के साथ है, जो क्रिप्टोक्यूरेंसी को रेखांकित करता है।

फंजिबल का अर्थ है कि दो चीजें आपस में इंटरचेंजेबल हैं, जैसे कि 100 रुपये के नोट- मान लीजिए कि आपके पास 100 रुपये का एक नोट है। इसे किसी दूसरे 100 रुपये के नोट से बदला जा सकता है, इसलिए यह फंजीबल असेट है।

एक नॉन फंजीबल टोकन (Non-fungible token) एक वित्तीय सुरक्षा है, जिसमें एक ब्लॉकचेन में संग्रहीत डिजिटल डेटा होता है, जो वितरित खाता (Distributed Ledger) का एक रूप है। एनएफटी का ownership ब्लॉकचैन में दर्ज किया जाता है, और मालिक द्वारा transfer (हस्तांतरित) किया जा सकता है, जिससे एनएफटी को बेचा और व्यापार किया जा सकता है।

Crypto को सरल भाषा में कैसे बता सकते है?

क्रिप्टोक्यूरेंसी एक डिजिटल या आभाषी करेंसी (Virtual Currency) मुद्रा /डिजिटल संपत्ति है जिसे क्रिप्टोग्राफी टेक्नोलॉजी की ओर से सुरक्षित किया जाता है। यह कंप्यूटर के विकेन्द्रीकृत नेटवर्क और ब्लॉकचैन नामक एक सार्वजनिक खाता बही पर बनाया गया है। इसे एक्सचेंज के माध्यम के रूप में काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

यह केवल वर्चुअल (virtual) रूप में उपलब्ध है और आमतौर पर संख्या में सीमित है। अर्थात एक सीमित संख्या में क्रिप्टो एक सरकारी करेंसी (sovereign currency) के विपरीत है जो असीमित है और इसे इच्छानुसार मुद्रित किया जा सकता है। उदाहरण, बिटकॉइन केवल 21 मिलियन प्रचलन में आएंगे।

रेटिंग: 4.59
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 182
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *