सबसे अच्छे Forex ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म

ईटीएफ क्या है

ईटीएफ क्या है
वहीं, इसके बाद अक्‍टूबर 2022 में दलाल स्‍ट्रीट के वेटर्न फंड मैनेजर हीरेन वेद ने कहा कि सेंसेक्‍स 2025 की शुरुआत में ही इस आंकड़े को पार करने का कमाल कर सकता है। इसके अलावा अब दूसरे बाजार विशेषज्ञ भी अनुमान ईटीएफ क्या है लगा रहे हैं कि सेंसेक्‍स 1 लाख अंक के स्‍तर को छूने में अधिक समय नहीं लगायेगा।

Sensex

EPF Interest Calculation: करोड़ो लोगों को इंतजार, कब खाते में पैसे डालेगी सरकार? खुद ऐसे चेक करें अपना बैलेंस.

EPF Interest Calculation: भविष्य निधि खाते में जल्द ही ब्याज क्रेडिट होने लगेगा।कर्मचारी भविष्य निधि (EPF) खाताधारकों के खाते में सरकार पैसा डालेगी।आपके पीएफ में जमा रकम पर ब्याज दर (EPF Interest Rate) तय होती है.समापन आर्थिक वर्ष के लिए, खाताधारकों को उनकी जमा राशि पर 8.1% शौक मिलता है।हालांकि, ईपीएफओ ने अभी यह नहीं बताया है कि ब्याज का पैसा कब तक क्रेडिट किया जा सकता है।उम्मीद है कि अक्टूबर के माध्यम से सभी खाताधारकों के खाते में पैसा जमा किया जा सकता है।लेकिन, क्या आप जानते हैं कि EPF अकाउंट में हॉबी कैलकुलेशन कैसे किया जाता है?

कैसे पता करें कितना आएगा आपका पैसा?

वित्त वर्ष 2021-22 के लिए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने ब्याज दर 8.1 फीसदी के हिसाब से तय की है।हॉबी कैश जमा करने की प्रक्रिया सितंबर से शुरू होगी।अक्टूबर के अंत के ईटीएफ क्या है माध्यम से सभी खाता में धन जमा किया जा सकता है।हालांकि, ईपीएफओ ने अब तक कोई क्लोजिंग डेट नहीं दी है।लेकिन, अगर पुनर्मूल्यांकन पर विश्वास किया जाए, तो विधि लगभग पूरी हो ईटीएफ क्या है चुकी है।आपके खाते में कितना शौक पैसा उपलब्ध होगा यह आपके खाते में जमा राशि पर निर्भर करता है।वित्तीय वर्ष में जमा की जा सकने वाली राशि पर 8.1 प्रतिशत की दर से ब्याज धन प्राप्त किया जा सकता है।अगर आपके ईपीएफ खाते में 1.5 लाख रुपए जमा हो गए हैं तो 8.1 फीसदी के हिसाब से सालाना 12,150 रुपए आपके खाते में आएंगे।

कैसे होती है EPF पर ब्याज की कैलकुलेशन?

EPF: ईपीएफ ब्याज कैलकुलेशन हर महीने ईपीएफ खाते ईटीएफ क्या है ईटीएफ क्या है में जमा रकम यानी मंथली वॉकिंग बैलेंस के आधार पर किया जाता है।लेकिन, यह साल के अंत में जमा होना है।ईपीएफओ के नियमों के मुताबिक, मौजूदा वित्तीय वर्ष की अंतिम तारीख को शेष राशि से साल भर में अगर कोई रकम निकाली गई है तो उसमें से एक साल का ब्याज काट लिया जाता है।ईपीएफओ आमतौर पर खाते का छेद और अंतिम स्थिरता लेता है।इसकी गणना करने के लिए, महीने-दर-महीने चलने की स्थिरता पेश की जाती है और शौक / 1200 की कीमत के माध्यम से बढ़ाया जाता है।

आम तौर पर ईपीएफ खाताधारकों को उम्मीद होती है कि प्रोविडेंट फंड में जमा पूरे पैसे पर ब्याज मिलता है।लेकिन, ऐसा नहीं होता है।पीएफ खाते में पेंशन फंड में जाने वाली राशि पर ब्याज की कोई गणना नहीं होती है।

कहां निवेश किया जाता है आपका EPF का पैसा?

ईपीएफ सब्सक्राइबर्स के खाते में जमा रकम को कई जगह निवेश किया जाता है।यह फंडिंग ईपीएफओ की मदद से तय की जाती है।इस फंडिंग से होने वाली कमाई का इस्तेमाल हॉबी पेमेंट के लिए किया जाता है।EPFO 85% डेट ऑप्शंस में निवेश करता है।इनमें सरकारी प्रतिभूतियां और बांड शामिल हैं।अंतिम 15% ईटीएफ में निवेश किया जाता है।ईपीएफ पर ब्याज डेट और इक्विटी से होने वाले मुनाफे के आधार पर स्थिर रहता है।

ईपीएफओ की वेबसाइट पर जाएं।हमारी सेवाएं के ड्रॉपडाउन से कर्मचारियों के लिए चुनें।यहां मेंबर पासबुक ईटीएफ क्या है पर क्लिक करें।यूएएन नंबर और पासवर्ड से लॉग इन करें।पीएफ खाते का चयन करें और स्थिरता पर एक नजर डालें।इसके अलावा एसएमएस के जरिए भी स्टेबिलिटी चेक की जा सकती है।इसके ईटीएफ क्या है लिए EPFOHO UAN ENG लिखकर टोल फ्री नंबर 7738299899 पर मैसेज भेजें।शेष आँकड़े उत्तर में उपलब्ध होंगे।उमंग ऐप से ईपीएफ स्टेबिलिटी भी चेक की जा सकती है।

सेंसेक्स क्‍यों छू लेगा 1 लाख का आंकड़ा?

सोमवार के रिकॉर्ड हाई के बाद ब्रोकरेज फर्म मॉर्गन स्‍टेनली का कहना है कि सेंसेक्‍स दिसंबर 2023 तक 80,000 अंक स्तर का आंकड़ा छू लेगा। वहीं, केडिया एडवाइजरी के प्रबंध निदेशक अजय केडिया का कहना है कि सिर्फ डेढ़ साल के अंदर सेंसेक्‍स 1 लाख के आंकड़े के स्तर को छूकर पूरी दुनिया को अश्चर्यचकित कर देगा।

उनका कहना है कि जियोग्राफिक में अब काफी सुधार हो चुका है। वहीं, अब इंस्‍ट्रीयल डिमांड में भी मोटा मुनाफा होगा। बाजार को इसका फायदा मिलेगा और ये नई ऊंचाइयों को छूएगा।

कहां निवेश करने पर मिलेगा फायदा?

एमडी अजय केडिया से जब पूछा गया कि ऐसे में निवेशकों को क्‍या करना चाहिये। उन्‍हें कहां निवेश करना चाहिए, जिससे उनको ज्‍यादा से फायदा मिल सके? इस पर उन्‍होंने कहा कि लंबी अवधि के निवेशकों को कमोडिटी में निवेश को लेकर खुले दिमाग से विचार करना चाहिये।

उन्‍होंने कहा कि ईटीएफ क्या है पिछले कुछ समय में चांदी की मांग में लगातार बृद्धि हुईं है। कुछ समय में गोल्‍ड सिल्‍वर की राशियों में भी काफी सुधार आया है। इसका मतलब है कि माहौल निवेश के अनुकूल बन रहा है।

ईंट खरीदें या सिल्‍वर ईटीएफ?

केडिया ने तर्क दिया कि जब माहौल में अनिश्चितता होती है ईटीएफ क्या है तो गोल्‍ड में निवेश बढ़ता है। वहीं, जियो पॉलिटिकल और जियो-ग्राफिकल में काफी सुधार होने पर निवेशक गोल्‍ड के बजाय अन्य विकल्‍पों में निवेश करना शुरू कर देते हैं।

जब उनसे पूछा गया, ‘अगर आज हम 1 किलोग्राम चांदी में निवेश करते हैं तो 2 साल साल के अंदर कितना लाभ मिल सकता है तो उन्‍होंने कहा कि वर्तमान स्थिति के हिसाब से लोगों को 40 फीसदी लाभ मिलना लगभग तय है।

उनसे फिर पूछा गया, ‘चांदी की 1 किग्रा की ईंट खरीदें या डिजिटल सिल्‍वर में निवेश करें। तो उन्‍होंने कहा कि सिल्‍वर ईटीएफ (Silver ETF) में अधिकतर निवेशकों निवेश करना चाहिए क्‍योंकि चांदी की ईंट बेचे ईटीएफ क्या है जाने पर कई प्रकार के चार्ज लगने से आपका लाभ घट जायेगा’।

केडिया एडवाइजरी के अनुसार , सिल्‍वर ईटीएफ में निवेश करना फायदे का समझौता रहेगा।

‘FPIs बरकरार रखेंगे मजबूत निवेश’

जैफरीज़ के क्रिस्‍टोफर वुड ईटीएफ क्या है ने इस साल की शुरुआत में कहा था कि 15 प्रतिशत ईपीएस वृद्धि होना संभव है। उनका आकलन पांच साल के दृष्टिकोण पर आधारित था। वुड का कहना था कि भारतीय बाजार के लिए महगाई चिंता का विषय नहीं है।भारतीय शेयर बाजार को तेल की बढ़ती कीमतों से खतरा है।

भारतीय शेयर बाजार की तेजी निवेशकों के लिए हमेशा से अच्‍छी रही है। वृद्धि आधारित इक्विटी बनाने के लिए भारत प्रमुख निवेशक होना चाहिये। भारत कोरोना महामारी से भी अब निकल चुका है। वुड के अनुसार , ऐसे में विदेशी निवेशक (FPIs) भारत में मजबूत निवेश बनाये रखेंगे।

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 369
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *