सबसे अच्छे Forex ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म

एक प्लेटफार्म चुनना

एक प्लेटफार्म चुनना

आजकल तो इस सफ़र का बड़ा हिस्सा राष्ट्रीय राजपथ NH 60 राजपथ से होकर गुजरता है जो अब शायद फोर लेन हो गया है पर उस वक़्त सड़क इतनी चौड़ी नहीं थी। खड़गपुर से दीघा करीब 115-120 किमी है । अगर राष्ट्रीय राजपथ NH 60 से होकर जाया जाए तो सबसे पहले आता है नारायनगढ़ (Narayangarh) फिर हर पच्चीस तीस किमी के बाद बेलदा (Belda), एगरा (Egra) और रामनगर (Ramnagar) कस्बे आते हैं। रामनगर से दीघा करीब 15 किमी दूरी पर है। क़ायदे से ये दूरी ढाई से तीन घंटे लगने चाहिए पर हमारी बस ने रुकते चलते साढे चार घंटे का समय ले लिया और हम करीब पौने ग्यारह बजे दीघा पहुँचे।

Super Cat Tales 2

Super Cat Tales 2 एक 2 डी प्लेटफार्म है जो उत्कृष्ट Super Cat Bros के आगे का खेल है। एक बार फिर, महाकाव्य साहसिक पर बिल्लियों के समूह की सहायता के लिए सेना में शामिल हो जाएँ। इसके अलावा अब आप विशेष नई शक्तियों के साथ नई बिल्लियों के साथ खेल सकते हैं।

इसके नियंत्रकों के संदर्भ में, Super Cat Tales 2 मूल रूप से मूल खेल के समान है - जो पहले से ही सही था। अपनी स्क्रीन के किनारे दबाकर आप अपनी बिल्ली को उस दिशा में ले जाते हैं। फिर जब भी आप जल्दी से टैप करते हैं, तो आप जितनी जल्दी हो सके अपनी छोटी किटी को दौड़ा सकते हैं। एक मंच के किनारे चलने के रूप में कूदना आसान है।

Super Cat Tales 2 बनाने वाले सौ से अधिक स्तरों में आप आठ अलग-अलग बिल्लियों के रूप में खेल सकते हैं। जैसा कि पहले गेम में था, बिल्लियों में से प्रत्येक की अपनी अनूठी क्षमताओं की आवश्यकता होती है, ताकि स्तर के कुछ क्षेत्रों को दूर करने या छिपी घंटी के लिए एक को चुनने के लिए आवश्यक हो।

Super Cat Tales 2 स्मार्टफोन और टेबल और सुंदर दृश्यों के लिए एक परिपूर्ण नियंत्रण योजना के साथ एक उत्कृष्ट प्लेटफार्म है - और एक उज्ज्वल, हंसमुख साउंडट्रैक के साथ आता है। इस बार अनुक्रम उतना ही अच्छा है जितना मूल Super Cat Bros है।

मुसाफ़िर हूँ यारो. ( Musafir Hoon Yaaro . )

पिछले हफ्ते चाँदीपुर के छिछले तट के बारे में अपने एक पुराने संस्मरण को याद करते हुए आपसे वादा किया कि अगली बार आप सब को ले चलेंगे एक ऍसे समुद्री तट की ओर जिस पर आपको लोग फुटबाल खेलते भी नज़र आ जाएँ तो कोई आश्चर्य की बात नहीं है। पर इस तट के बारे में तो विस्तार से तब बात करेंगे जब वहाँ पहुँचेंगे। आज पढ़िए राँची से खड़गपुर होते हुए दीघा (Digha) तक पहुँचने की दास्तान.

बात सात साल पहले सन 2002 की है। जाड़े का समय था। दिसंबर का आखिरी हफ्ता चल रहा था। सप्ताहांत के साथ दो तीन दिन की छुट्टियाँ पड़ रही थी तो अचानक कार्यालय के चार सहकर्मियों के साथ बिना किसी पूर्व योजना के दीघा जाने का कार्यक्रम बन गया। वैसे राँची से दीघा जाना, वो भी परिवार के साथ थोड़ा पेचीदा है। या तो राँची से कोलकाता जाइए और वहाँ से बस से दीघा पहुँचिए (वैसे अब तो हावड़ा से दीघा के लिए ट्रेन भी हो गई है जो साढ़े तीन चार घंटे में दीघा पहुँचा देती है) या फिर राँची से हावड़ा जाने वाली ट्रेन से खड़गपुर उतरिए और वहाँ से सड़क मार्ग से दीघा की ओर निकल लीजिए।

हमने दूसरा रास्ता चुना। रात में ट्रेन में बैठे और सुबह सवा चार बजे आँखे मलते हुए खड़गपुर (Khadagpur) स्टेशन पर उतरे। वैसे तो खड़गपुर, IIT की वज़ह से मशहूर है ही। देश के पहले IIT के लिए इसी शहर को चुना गया था। पर IIT के आलावा इस जगह के बारे में एक और बात खास है और वो है इसका रेलवे प्लेटफार्म। यहाँ का रेलवे प्लेटफार्म आज की तारीख़ में विश्व का सबसे लंबा प्लेटफार्म माना जाता है। इसकी कुल लंबाई 1 किमी से भी ज्यादा यानि 1072 मीटर है। वैसे शुरुआत में ये जब पहली बार बना तो इसकी लंबाई 716 मीटर थी जो बाद में बढ़ाकर पहले 833 और फिर 1072 मीटर कर दी गई।

चलिए अगर अभी भी आप इस स्टेशन के फैलाव को महसूस करने में दिक्कत हो रही हो तो नीचे के इन चित्रों को देखें। जो दो चित्र आप देख रहे हैं वो लगभग एक ही जगह से स्टेशन के दोनों सिरों को देखने का प्रयास है।

अब इतना लंबा प्लेटफार्म होने की वज़ह से एक ही प्लेटफार्म पर दो ट्रेने खड़ी हो जाती हैं यानि एक के पीछे एक और अगर मुझे सही याद है तो शायद इसी वज़ह से यहाँ एक प्लेटफार्म के अगले और पिछले हिस्से का अलग अलग नामाकरण किया गया है।

खैर, ये तो रही स्टेशन की बात पर हमें तो अब आगे का सफ़र सड़क मार्ग से तय करना था। पर साढ़े चार बजे भोर में अनजान स्टेशन के बाहर निकलना हमने मुनासिब नहीं समझा। चालीस मिनट प्रतीक्षालय में बिताने के एक प्लेटफार्म चुनना बाद हम बाहर बगल के बस स्टैंड की ओर निकले। देखा बस तो बहुत खड़ी हैं पर ना कोई यात्रियों की ही चहल पहल है और ना ही यात्रियों को अपनी ओर हाँकने वाले कंडक्टरों की। वैसे बस के आलावा वहाँ उस वक़्त ट्रैकर भी खड़े मिले पर बिना उनके चालकों के। इधर-उधर से पता चला कि आठ बजे से पहले ये एक प्लेटफार्म चुनना ट्रेकर यहाँ से नहीं खिसकते अलबत्ता उसके पहले बस जरूर मिल सकती है।

सो दीघा जल्दी पहुँचने की गर्ज में घंटे भर इंतजार करने के बाद उधर जाने वाली पहली बस पर चढ़ लिए। कंडक्टर ने बताया तो उसे द्रुत गति की यानि फॉस्ट बस और सफ़र के पहले घंटे में तो उसकी चाल सही रही पर एक बार आबादी बहुल इलाके में पहुँचने की देर थी फिर तो वो पैसेन्जर से भी बदतर हो गई और हर दस पन्द्रह मिनट पर रुकती रही।

धान के हरे भरे खेत खलिहान छोटे छोटे गाँव, गाँव के घरों की दीवालों पर सीपीएम तो कहीं पंजे के बड़े निशान, (तब ममता दी की अलग पार्टी नहीं रही होगी) पोखरे में जगह जगह तैरती बतखें, कमल के फूलों की बहार और सड़क के किनारे नारियल के पेड़ों की कतार पश्चिम बंगाल के ग्रामीण इलाकों का आम दृश्य है। जब तक बस की रफ्तार सही रहती है ये दृश्य मन को खूब भाते हैं। पर दिन चढ़ते ही खस्ता हाल सड़कों पर रुकती रेंगती बस में बाद में इन दृश्यों को देखने की इच्छा कमतर होती गई।


आजकल तो इस सफ़र का बड़ा हिस्सा राष्ट्रीय राजपथ NH 60 राजपथ से होकर गुजरता है जो अब शायद फोर लेन हो गया है पर उस वक़्त सड़क इतनी चौड़ी नहीं थी। खड़गपुर से दीघा करीब 115-120 किमी है । अगर राष्ट्रीय राजपथ NH 60 से होकर जाया जाए तो सबसे पहले आता है नारायनगढ़ (Narayangarh) फिर हर पच्चीस तीस किमी के बाद बेलदा (Belda), एगरा (Egra) और रामनगर (Ramnagar) कस्बे आते हैं। रामनगर से दीघा करीब 15 किमी दूरी पर है। क़ायदे से ये दूरी ढाई से तीन घंटे लगने चाहिए पर हमारी बस ने रुकते चलते साढे चार घंटे का समय ले लिया और हम करीब पौने ग्यारह बजे दीघा पहुँचे।


दिसंबर के महिने में दीघा बंगाल के स्थानीय पर्यटकों से भरा रहता है और हमने तो क्रिसमस के समय बिना किसी रिजर्वेशन के सपरिवार आने की हिमाकत की थी। ऊपर से यहाँ एक परिवार की जगह चार परिवार थे। तो एक साथ चार रूम मिलना बड़ा मुश्किल था। आठ दस होटलों की खाक़ छानने के बाद भी निराशा हाथ लगी। वैसे तो मैं कभी यात्रा में होटल बिचौलिए या दलाल की मदद से तय नहीं करता पर इस बार परिस्थिति ऍसी थी कि हमें वो भी करना पड़ा। दो सौ रुपये के रूम को चार सौ में बुक किया। रूम में घुसे तो पाया किसी में चादर एक प्लेटफार्म चुनना नहीं तो किसी में तकिया नदारद और चार की जगह केवल तीन कमरे। ऊपर से जिसने बुक किया वो उस होटल का मालिक ना होकर वेटर निकला। मालिक ने आते ही रेट ५०० रुपये कर दिए। जम कर वाक युद्ध हुआ। इस बार चार परिवारों की फौज रहने का थोड़ा फ़ायदा हुआ। एक घंटे के अंदर मालिक ने चार रूम को सही हालत में देने की पेशकश की पर रेट में कोई कमी नहीं की। खैर हमारे पास भी ज्यादा विकल्प मौज़ूद नहीं थे और इस झगड़े में समय भी व्यर्थ हो रहा था तो नहाने के कपड़े ले कर हम सीधे समुद्र तट की ओर चल दिए..

Blog Kaise Banaye – Full Guide 2022

हेलो दोस्तो आज में आपको Blog Kaise Banaye इसकी पूरी जानकारी देने वाला हु। आज के समय ब्लॉगिंग हर कोई ब्लॉगिंग करना चाहता यह अच्छी बात है कि आपने यह सोचा ब्लॉगिंग जहा अपने विचार या अपनी बात एक ब्लॉग के माध्यम से जनता तक पहुचना चाहते आप अपने नॉलेज को शेयर करना चाहते है पर आपके मन मे सवाल आता होगा कि आख़िर ब्लॉग बनाये कैसे? आप एक अच्छा और प्रोफेशनल एक प्लेटफार्म चुनना दिखने वाला ब्लॉग बनाना है कोई बात नही हम आपको Blog Kaise Banaye पूरी जानकारी के साथ सिखाएंगे।

ब्लॉग बनाने से पहले हर कोई गलती है करता है इनमे से में भी एक प्लेटफार्म चुनना हु मेरी बात कर तो मैंने भी गलती की है। गलती है कि अगर कोई यूट्यूब पर या कोई दूसरे सोशल प्लेटफार्म पर आपको एक टॉपिक ब्लॉग बनाना सिखाता है तो कई लोग उसी टॉपिक पर ब्लॉग बनाते है। आपको ऐसा नही करना है। आपको उस टॉपिक में रुचि रखते है तो ही उस टॉपिक को चुने मानलो की आपको कुकिंग ब्लॉग बनाना है तो आपको कुकिंग आनी जरूरी है इसका अनुभव होना जरूरी है। नही तो आप कही ना कही रुक जाओगे। तो आप समझ गए होंगे कि आपको किस तरह ब्लॉग बनाना है।

तो अभी हम आपको कुछ ही मिनट्स मेंl ब्लॉग बनाना सिखाएंगे। ब्लॉग बनाना हम स्टेप बाय स्टेप सीखेंगे और साथ ही आपको समझने के लिए फ़ोटोज और वीडियोज दिखाएंगे। तो चलिए हम Blog Kaise Banaye जान लेते है।

Blog Kaise Banaye – Step By Step

सबसे पहले आपको ब्लॉग बंनाने के लिए एक प्लेटफार्म चुनना है। आप फ्री में ब्लॉगिंग करना चाहते तो ब्लॉगर पर ब्लॉग बना सकते है। ब्लॉगर Subdomain प्रोवाइड करता है abcd.blogspot.com और आप इसे ब्लॉग को ब्लॉगर पर फ्री में होस्ट कर सकते है आपको कोई और होस्टिंगे खरीदने की जरूरत नही। आपका सारा काम ब्लॉगर पर फ्री में हो जाएगा। तो चलिये ब्लॉगर पर फ्री में ब्लॉग बनाते है।

आप एक प्रॉफेशनल ब्लॉग बनाना चाहते है एक ऐसा ब्लॉग जो दिखने में Attractive और Beautiful होगा। तो आप वर्डप्रेस पर ब्लॉग बना सकते है। वर्डप्रेस पर ब्लॉग बनाने के लिए आप कस्टम डोमेन और होस्टिंग कि जरूरत होगी। हम आपको एक प्रॉफेशनल ब्लॉग बनाने के लिए पूरी गाइड करेंगे।

Blogger Par Free Blog Kaise Banaye

Step 1: सबसे पहले आपको Google Chrome में Blogger.com इस वेबसाइट को ओपन करना है।

Step 2: अब अपने Gmail Account से Sign In पे क्लिक कीजिए। इसके बाद Create New Blog पर क्लिक कीजिए।

Step 3: अपने ब्लॉग का Title डालिये। इसके बाद Address जो आपके ब्लॉग का यूआरएल होगा।

Note: अगर invailid आ रहा है तो वो एड्रेस पहले से उसपे ब्लॉग बनाया है। जब आप Valid होगा।

Step 4: अब आपको कोई एक Template को सिलेक्ट करना है जब सिलेक्ट करोगे तब Blue Box शो होगा।

Step 5: अब नीचे Create Blog Button पर क्लिक कीजिए।

अब आपका एक ब्लॉग लिखने के लिए तैयार हुआ बस इसमे आपको कुछ जरूरी सेटिंग बताएंगे जिससे आपका ब्लॉग लिखने के लिए और शेयर करने के लिए तैयार हो जाएगा।

अगर आपने Custom Domain लिया है और आप इसे ब्लॉगर पर Connect करना चाहते है तो हम आपको स्टेप बाय स्टेप प्रोसेस बताएंगे।

Custom Domain Ko Blogger Se Connect Kaise Kare

Step 1: सबसे पहले Blogger वेबसाइट में log In करे।

Step 2: अब ऑप्शन में Setting पर क्लिक कर Basic पर क्लिक करे।

Step 3: अब Blog Address के नीचे Add Custom Domain लिखा है उसपे क्लिक करे।

Step 4: अब आपका Custom Domain का यूआरएल डालिये और Save पर क्लिक करें।

अब आपके सामने Two CName दिखाई देंगे इसे जहा से आपने Domain Name ख़रीदा है उसके DNS Zone ऐड करना है।

Step 1: सबसे पहले जहा से आपने डोमेन लिया Godaddy वेबसाइट पर sign In कीजिये।

Step 2: इसके बाद My Product क्लिक करे और जहा आपका Domain Name है उसके राइट साइड में थ्री डॉट के ऑप्शन पर क्लिके करे और Manage DNS पर क्लिक करे। एक प्लेटफार्म चुनना अब आपके सामने Record दिखाई देंगे।

Step 3: अब आपको Blogger पर आना है जहाँ आपने Custom Domain Add किया था वहाँ आपको CNames दिए है उसे DNs Record में ऐड करना है।

CNames दो तरह के होते है

(Name :www, Destination: ghs.google.com)
Name: hqzzzn56a3ri Destination: gv-oc7x5vzzzqxirt.dv.googlehosted.com

Step 4: अब DNS Record में Type CName में Name www पहले से रहेगा। अब Destination में ghs.google.com इसे कॉपी करके CName में राइट साइड में Edit का ऑप्शन है उसपे क्लिक करना है और Point To में @ को remove करके ghs.google.com इसे पेस्ट करना है और Save बटन पर क्लिक करना है।

Step 5: अब आप फिरसे ब्लॉगर पर आईये अब आपको दूसरा CName कोड़ करना है Name में इसे एक प्लेटफार्म चुनना कॉपी करें और DNS रिकॉर्ड में दूसरे CName में एडिट के ऑप्शन पर क्लिक करे Host में ex. hqzzzn56a3ri इसे पेस्ट कीजिये। अब Destination में ex. gv-oc7x5vzzzqxirt.dv.googlehosted.com इसे कॉपी करके Dns Record में Point To में पेस्ट कीजिये और Save बटन पर क्लिक करे।

अब आपका Custom Domain ब्लॉगर के साथ कनेक्ट हो गया है। अब अपने ब्लॉग 10 या 15 मिनट्स View Blog पर क्लिक करके देख सकते है।

तो दोस्तो उम्मीद है कि आपको Blog Kaise Banaye इसकी पूरी जानकारों मिल गयी। आप हमारे बताए हुए तरीके से बिना कोई एक प्लेटफार्म चुनना एरर आये ब्लॉग को बना सकते है। ब्लॉग बंनाने से पहले जो नाम अपने चुना है उसे पहले गूगल में सर्च करके जरीर देखे की पहले से ही उस नाम से लिंक अवेलेबल है या नही अगर नही है तो आपका ब्लॉग नाम सर्च करते है फर्स्ट पर रैंक करेगा। ब्लॉग तभी बनाये जब आपको किसी टॉपिक के बारे में ज्यादा जानकारी है उसे आप ब्लॉग के माध्यम से लोगो तक पहचाना चाहते है। आप हमारे Blog Kaise Banaye इस ब्लॉग पोस्ट को पढ़ने के आपका बहुत धन्यवाद आपको यह ब्लॉग कैसा लगा नीचे कमेंट में जरूर बताना।

WordPress को Blogging के लिए Best क्यों माना जाता है?

हम जब भी इंटरनेट को इस्तेमाल करते हैं तो हमें WordPress के बारे में काफी कुछ सुनने को मिलता है। WordPress को एक प्लेटफार्म के तौर पर Blogging के लिए इस्तेमाल में लिया जाता है। आज के समय में Internet पर काफी सारे Blogging Platform मौजूद हैं।

जब भी Blogging Platform चुनने की बात आती है तो लोग सोच में पड़ जाते हैं क्योंकि आपको अच्छे Tools और अच्छे Features तो सिर्फ एक Best Blogging Platform पर ही मिल सकते हैं।

WordPress Blogging Ke Liye Kyu Best Hai

WordPress Blogging Ke Liye Kyu Best Hai

अगर आपने Best Blogging Platform का चुनाव नहीं किया तो इससे आप अपने Blogging Carrier को एक अच्छे लेवल तक नहीं ले जा सकते।

वैसे तो काफी सारी Blogging Platform इंटरनेट पर मौजूद हैं। लेकिन सब से ज्यादा WordPress और Blogspot को ही इस्तेमाल में लिया जाता है। यह दोनों ही Blogging के लिए सबसे अच्छे प्लेटफार्म माने जाते हैं।

ज्यादातर Bloggers शुरूआती दिनों में अपने Blogging करियर की शुरुआत Blogspot के ब्लॉग से ही करते हैं। क्योंकि Blogspot को खासतौर पर नए Bloggers के लिए ही तैयार किया गया है। Blogspot और WordPress के बीच काफी अंतर देखने को मिलता है।

क्योंकि इन दोनों में ही जो सुविधाएं दी गयी हैं उनमें काफी अंतर है। इस आर्टिकल की मदद से हम आपको यह बताने की कोशिश करेंगे कि आप एक Best Blogging Platform को कैसे चुनें।

Best Blogging Platform का चुनाव कैसे करें ? BlogSpot Vs WordPress

सबसे पहले तो हम ये समझ लेते हैं कि हमें दोनों में ही Custom Domain देखने को नहीं मिलता है। हम आपको बता दें कि WordPress में आपको सिर्फ custom domain add करने का ही ऑप्शन मिलता है।

लेकिन वहीँ BlogSpot में देखा जाये तो आपको subdomain और custom domain दोनों का ही ऑप्शन देखने को मिलता है।

Subdomain का यह मतलब होता है कि हमें एक domain के नाम से पहले एक और शब्द जोड़कर जो मिलता है उसे ही subdomain कहा जाता है।

इसके साथ हम इसे एक custom domain को भी जोड़ कर सकते हैं, चाहे वह कहीं से भी खरीदा गया हो। शुरूआती दौर में तो आपको Blogspot का ही इस्तेमाल करना चाहिए। लेकिन कुछ समय के बाद आपको wordpress पर शिफ्ट होना ही पड़ेगा।

एक सबसे बड़ा कारण यह भी है कि wordpress में आपको जितनी सुविधाएं दी जाती हैं। वह सभी आपको Blogspot में नहीं मिलते हैं। आप दोनों में से किसी भी प्लेटफार्म का इस्तेमाल करें।

लेकिन कुछ समय बाद आपको custom domain पर ही जाना होगा। क्योंकि subdomain में कुछ लिमिटेशन होने के कारण आप उसमें ज्यादा कुछ नहीं कर सकते।

आप अगर blogging के क्षेत्र में कुछ करना चाहते हैं तो कभी न कभी आपको custom domain का इस्तेमाल करना ही पड़ेगा।

ब्लागस्पाट को simple blogging platform के तौर पर मन जाता है। क्योंकि इसमें कुछ कम ही फीचर देखने को मिलते हैं। वहीं जब WordPress की बात आती है तो इसे एक Top Level Dynamic Blogging प्लेटफार्म के रूप में देखा जाता है।

इसके साथ ही वर्डप्रेस में bloggers को पूरी सुविधाएं भी मिलती हैं।

इस्तेमाल में आसान

BlogSpot को हम काफी सरलता से इस्तेमाल में ले सकते हैं। हमारे लिए Twitter और Facebook पर अकाउंट बनाना जितना आसान है। उतना ही आसान से हम ब्लागस्पाट को भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

WordPress में आपको blogspot के मुकाबले इतनी सरलता देखने को नहीं मिलती। Blogspot में आप एक ब्लॉग क्रिएट करने के बाद तुरंत ही आप उस पर आर्टिकल लिखने की शुरुआत कर सकते हैं।

लेकिन wordpress में आपको Theme के साथ-साथ plugins को इनस्टॉल करके सेटअप करना होता है। WordPress में इन सभी प्रोसेसेज में काफी समय भी लगता है।

Blogspot के मुकाबले wordpress को थोड़ा कठिन माना जाता है। लेकिन सुविधाओं की जब बात आती है तो वर्डप्रेस का सबसे पहले जिक्र होता है।

दोनों में सुविधाएँ

फीचर्स के मामले में ब्लागस्पाट में मुकाबले वर्डप्रेस को ज्यादा बेहतर माना जाता है। क्योंकि वर्डप्रेस में हम हर एक चीज़ को अपने हिसाब से कस्टमाइज कर सकते हैं और अपने हिसाब से डिज़ाइन कर सकते हैं।

वहीँ ब्लागस्पाट के ब्लॉग में हमें इतनी सारी सुविधाएं देखने को मिलती हैं। वर्डप्रेस मे बहुत सारे plugins available हैं जिससे कि आप अपनी blogging को आसान बना सकते हैं।

SEO में बेहतर

WordPress में आप आर्टिकल का SEO काफी अच्छी तरह से कर सकते हैं और अपने आर्टिकल को आप काफी ज्यादा SEO friendly बना सकते हैं। Seo करने के लिए WordPress में काफी अच्छे plugin मौजूद हैं।

लेकिन Blogspot blog में आपको Seo करने के ज्यादा ऑप्शन नहीं मिल सकते हैं।

Performance

परफॉरमेंस में मामले में BlogSpot को ज्यादा बेहतर माना जाता है। BlogSpot में स्पीड डाउन होने के चान्सेस भी काफी कम होते हैं। लेकिन WordPress में स्पीड का काफी ज्यादा ध्यान रखना पड़ता हैं। WordPress में स्पीड को लेकर काफी ज्यादा दिक्कतें आती रहती हैं।

रेटिंग: 4.91
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 614
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *